what is msp in hindi

नमस्कार दोस्तों, इस आर्टिकल What Is MSP In Hindi में हम “MSP” के सभी बिन्दुओं (What Is MSP In Hindi, Importance And Full Form Of MSP- MSP क्या होता है) के बारे में बात करने वाले हैं कि आखिर ये MSP है क्या, जिसकी वजह से सरकार ओर किसानों में इतना बड़ा संघर्ष हो रहा है|

पिछले कुछ दिनों से कई राज्यों के किसान सड़कों पर संघर्ष कर रहे हैं। उनकी चिंता इस बात से है कि सरकार नया कानून बनाने जा रही है, जिससे फसलों की न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) की व्यवस्था समाप्त हो जाएगी।

What Is MSP In Hindi, Importance And Full Form Of MSP

What Is MSP In Hindi, Importance And Full Form Of MSP
What Is MSP In Hindi, Importance And Full Form Of MSP Source:GettyImages

वहीं सरकार का कहना है कि नए कानूनों से MSP पर कोई भी असर नहीं पड़ेगा और यह व्यवस्था पहले की तरह जारी रहेगी, लेकिन किसान इस बात को मानने के लिए तैयार नहीं है|

इस बीच यह जानना भी जरूरी हो जाता है कि आखिर MSP क्या होता है और इसकी जरूरत क्यों पड़ती है।

What Is MSP In Hindi क्या होता है MSP?

सरकार किसान की फसल के लिए एक न्यूनतम मूल्य निर्धारित करती है, जिसे MSP कहा जाता है।

यह एक तरह से देखें तो सरकार की तरफ से गारंटी होती है कि हर हाल में किसान को उसकी फसल के लिए तय दाम मिलेंगे।

What Is MSP In Hindi, Importance And Full Form Of MSP
What Is MSP In Hindi, Importance And Full Form Of MSP

अगर मंडियों में किसान को MSP या उससे ज्यादा पैसे नहीं मिलते तो सरकार किसानों से उनकी फसल MSP पर खरीद लेती है। इससे बाजार में फसलों की कीमतों में होने वाले उतार-चढ़ाव का किसानों पर कोई असर नहीं पड़ता।

बाजार में उस फसल के रेट भले ही कितने भी कम क्यों न हो पर सरकार उसे तय एमएसपी पर ही खरीदेगी. इससे यह फायदा होता है कि किसानों को अपनी फसल की तय कीमत के बारे में पता चल जाता है कि उसकी फसल के दाम कितने चल रहे हैं. हालांकि मंडी में उसी फसल के दाम ऊपर या नीचे हो सकते हैं. यह किसान की इच्छा पर निर्भर करता है कि वह फसल को सरकार को बेचे एमएसपी पर बेचे या फिर व्यापारी को आपसी सहमति से तय कीमत पर बेचे|

MSP / मिनिमम सपोर्ट प्राइस या फिर न्यूनतम सर्मथन मूल्य होता है. MSP सरकार की तरफ से किसानों की अनाज वाली कुछ फसलों के लिए दाम की गारंटी होती है. राशन सिस्टम के तहत जरूरतमंद लोगों को अनाज मुहैया कराने के लिए इस एमएसपी पर सरकार किसानों से उनकी फसल खरीद लेती है. 

Also Read: What Is Krishi Bill 2020 In Hindi

Full Form Of MSP

MSP की full form – Minimum Support Price होती है जिसका हिन्दी अर्थ – न्यूनतम समर्थन मूल्य होता है लेकिन सामन्यतया इसे MSP (एमएसपी) ही कहा जाता है|

MSP की शुरुआत कैसे हुई?

देश में आजादी के बाद के शुरुआती दशकों में ही किसान इस बात को लेकर काफी परेशान थे कि अगर किसी फसल का बंपर उत्पादन हो जाए तो उन्हें उसके अच्छे दाम नहीं मिल पायेंगे।

इस तरह से किसानों की लागत भी नहीं निकल पाती थी, जिस कारण वो आंदोलन करने लगे। क्योंकि कृषि कार्य में लागत 60% से भी ज्यादा चली जाती है|

इसके बाद लाल बहादुर शास्त्री के प्रधानमंत्री रहते हुए 1 अगस्त, 1964 को एलके झा के नेतृत्व में एक समिति बनी, जिसका काम अनाजों की कीमतें तय करने का था।

1966-67 में पहली बार गेहूं के लिए तय हुआ था MSP

समिति की सिफारिशें लागू होने के बाद 1966-67 में पहली बार गेहूं के लिए MSP का ऐलान किया गया।

इसके बाद से हर साल सरकार बुवाई से पहले फसलों के लिए MSP घोषित कर देती है। MSP तय करने के बाद सरकार स्थानीय सरकारी एजेंसियों के जरिये अनाज को खरीदकर फूड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (FCI) और नेफेड के पास उसका भंडारण करवाती है।

What Is MSP In Hindi
What Is MSP In Hindi, Importance And Full Form Of MSP

फिर इन्हीं स्टोर्स से सार्वजनिक वितरण प्रणाली (PDS) के जरिये गरीबों तक सस्ते दामों में अनाज को पहुंचा दिया जाता है।

फिलहाल 20 से अधिक फसलों पर दिया जाता है MSP

शुरुआत में केवल गेहूं के लिए MSP तय किया गया था। इससे किसान बाकी फसलों को छोड़कर सिर्फ गेहूं की फसल उगाने लगे, जिससे बाकि दुसरे अनाजो का उत्पादन कम हो गया।

फिर सरकार की तरफ से धान, तिलहन और दलहन की फसलों पर भी MSP दिया जाने लग गया।

वर्तमान में धान, गेहूं, मक्का, जई, जौ, बाजरा, चना, अरहर, मूंग, उड़द, मसूर, सरसों, सोयाबीन, शीशम, सूरजमूखी, गन्ना, कपास, जूट समेत 20 से अधिक फसलों पर MSP दिया जाता है।What Is MSP In Hindi, Importance And Full Form Of MSP

रबी और खरीफ की कुछ अनाज वाली फसलों के लिए MSP तय किया जाता है. एमएसपी का गणना हर साल फसल आने से पहले तय कर ली जाती है. 

फिलहाल 23 फसलों के लिए सरकार न्यूनतम समर्थन मूल्य MSP तय करती है. इनमें अनाज की 7, दलहन की 5, तिलहन की 7 और 4 कमर्शियल फसलों को शामिल किया गया है. धान, गेहूं, मक्का, जौ, बाजरा, चना, तुअर, मूंग, उड़द, मसूर, सरसों, सोयाबीन, सूरजमूखी, गन्ना, कपास, जूट आदि की फसलों के दाम सरकार तय करती है. 

MSP कौन तय करता है?

देश में MSP तय करने का काम कृषि लागत एवं मूल्य आयोग का है।

कृषि मंत्रालय के तहत काम करने वाली यह संस्था शुरुआत में कृषि मूल्य के नाम से जानी जाती थी। फिर इसमें लागत भी जोड़ दी गई, जिससे इसका नाम बदलकर कृषि लागत एवं मूल्य आयोग हो गया।

What Is MSP In Hindi, Importance And Full Form Of MSP

यह अलग-अलग फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य का निर्धारण करती है। वहीं गन्ने का MSP तय करने की जिम्मेदारी गन्ना आयोग के पास ही होती है।

फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य CACP यानी कृषि लागत एवं मूल्य आयोग तय करता है. CACP तकरीबन सभी फसलों के लिए दाम तय करता है. हालांकि, गन्ने का समर्थन मूल्य गन्ना आयोग ही तय करता है. आयोग समय के साथ खेती की लागत के आधार पर फसलों की कम से कम कीमत तय करके अपने सुझाव सरकार के पास भेज देता है. सरकार सुझाव पर अध्ययन करने के बाद एमएसपी की घोषणा कर देती है. What Is MSP In Hindi, Importance And Full Form Of MSP

कैसे तय होता है MSP?

इसके लिए आयोग अलग-अलग इलाकों में किसी खास फसल की प्रति हेक्टेयर लागत, खेती के दौरान आने वाले सभी खर्च, सरकारी एजेंसियों की स्टोरेज क्षमता, वैश्विक बाजार में उस अनाज की demand और उसकी उपलब्धता आदि मानकों के आंकड़े इकट्ठा करता है, फिर उसी हिसाब से msp तय होता है।

इसके बाद हितधारकों और विशेषज्ञों से सुझाव लिए जाते हैं। अंत में आर्थिक मामलों की कैबिनेट समिति इस पर अंतिम फैसला लेती है।

What Is MSP In Hindi, Importance And Full Form Of MSP

केंद्र में जब मोदी सरकार आई तब उसने फसल की लागत का डेढ़ गुना एमएसपीMSP तय करने के नए फार्मूले अपनाने की पहल की. कृषि सुधारों के लिए 2004 में स्वामीनाथन आयोग बना था. आयोग ने एमएसपी तय करने के कई फार्मूले सुझाए थे. डा. एमएस स्‍वामीनाथन समिति ने यह सिफारिश की थी कि एमएसपी MSP औसत उत्‍पादन लागत से कम से कम 50 प्रतिशत अधिक होना चाहिए.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में एनडीए सरकार ने स्वामीनाथन आयोग की  सिफारिश को लागू किया औ 2018-19 के बजट में उत्‍पादन लागत के कम-से-कम डेढ़ गुना एमएसपी करने की घोषणा की थी.What Is MSP In Hindi, Importance And Full Form Of MSP

कैसे होती है किसानों से खरीद (Crop Procurement)

हर साल बुवाई से पहले फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य MSP तय हो जाता है. हर खरीफ और रबी सीजन के लिए फ़सल का एमएसपी तय होता है. बहुत से किसान तो एमएसपी देखकर ही फसल बुवाई करते हैं. 

एमएसपी पर सरकार विभिन्न एजेंसियों के माध्यम से किसानों से अनाज खरीदती है. MSP पर खरीदकर सरकार अनाजों का स्टॉक बनाती है. सरकारी खरीद के बाद FCI और नैफेड के पास यह अनाज जमा हो जाता है. इस अनाज का उपयोग (PDS) के लिए होता है. 

What Is MSP In Hindi
What Is MSP In Hindi, Importance And Full Form Of MSP

अगर बाजार में किसी अनाज में तेजी आती है तो सरकार अपने बफर स्टॉक में से अनाज खुले बाजार में निकालकर कीमतों को काबू करती है.What Is MSP In Hindi, Importance And Full Form Of MSP

सभी फसलों की सरकारी खरीद न होना है परेशानी

सरकार भले ही 20 से ज्यादा फसलों के लिए MSP तय करती है, लेकिन आमतौर पर सरकारी स्तर पर खरीद केवल गेहूं और धान की हो पाती है।

ऐसे में सभी किसानों को MSP का फायदा नहीं मिल पाता। इसकी वजह यह है कि गेहूं और धान को सरकार PDS प्रणाली के तहत गरीबों को देती है, इसलिए उसे इसकी जरूरत होती है।

What Is MSP In Hindi
What Is MSP In Hindi, Importance And Full Form Of MSP

बाकी फसलों की उसे इतने बड़े स्तर पर जरूरत नहीं पड़ती, इसलिए उनकी खरीद नहीं होती है।

एमएसपी का फायदा (Benefits of MSP)

एमएसपी MSP तय करने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि अगर बाजार में फसल का दाम गिरता है, तब भी यह तसल्ली रहती है कि सरकार को वह फसल बेचने पर एक तय कीमत तो जरूर मिलेगी. 

MSP सिस्टम की दिक्कत

किसानों की फसलों की लागत तय कर पाना बहुत मुश्किल होता है. छोटे किसान अपनी फसल को MSP पर नहीं बेच पाते हैं. बिचौलिये, किसान से फसल खरीदकर MSP का फायदा उठा लेते हैं. अभी भी कई फसलें MSP के दायरे से बाहर हैं. 

केरल में सब्जियों का भी एमएसपी (Vegetables MSP)

What Is MSP In Hindi
What Is MSP In Hindi, Importance And Full Form Of MSP

केरल सरकार ने सब्जियों (Vegetables) के लिए भी आधार मूल्‍य (Base Price) तय कर दिया है. केरल सब्जियों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) तय करने वाला भारत देश का पहला राज्य बन गया है. सब्जियों का यह न्यूनतम या आधार मूल्य (Base Price) उत्पादन लागत (Production Cost) से 20 फीसदी अधिक होगा. एमएसपी के दायरे में फिलहाल तो 16 तरह की सब्जियों को लाया गया है.

हरियाणा भी केरल की राह पर

केरल की तर्ज पर ही हरियाणा सरकार ने भी सब्जियों को भी न्यूनतम समर्थन मूल्य के दायरे में लाने की पहल की है. इसके लिए सुझाव भी मांगे जा रहे हैं तथा मंडियों का गहन अध्ययन किया जा रहा है.

What Is MSP In Hindi, Importance And Full Form Of MSP

अब आपको हमारे इस आर्टिकल What Is MSP In Hindi, Importance And Full Form Of MSP में पता चल ही गया होगा कि आखिर MSP क्या होता है और MSP की importance क्या है| comment करके बताएं कि आपको यह आर्टिकल कैसा लगा|

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *