Pulwama Attack Full Story in Hindi

नमस्कार दोस्तों, हम इस पोस्ट Pulwama Attack Full Story in Hindi, में आपको पुलवामा हमला 2019, Pulwama Attack Full Story in Hindi, Pulwama Attack 2019 News की पूरी जानकारी share करने वाले हैं|

पुलवामा अटैक: सीआरपीएफ के काफिले में 78 गाड़ियां थीं जिसमें 2500 जवान जम्मू से श्रीनगर जा रहे थे. आतंकियों को इस रूट पर जवानों की गाड़ियों के मूवमेंट की जानकारी पहले से थी और उसी का फायदा उठाते हुए आत्मघाती हमलावर ने इसे अंजाम दिया. जम्मू से करीब 262 किलोमीटर दूर ये हमला हुआ.

दरअसल, सीआरपीएफ के लगभग 2,500 जवान लगभग 78 वाहनों में सवार थे और सीआरपीएफ का ये काफिला जम्मू से श्रीनगर जा रहा था। ज्यादातर जवान वो शामिल थे जो छुट्‌टी काटकर ड्यूटी पर लौटे थे। लेकिन जब काफिला जम्मू कश्मीर हाईवे पर अवंतिपोरा इलाके में पहुंचा तो लगभग 3.15 बजे 100 किलो विस्फोटक से भरी कार काफिले में शामिल एक बस से जा टकराई। जिससे ज़ोरदार धमाका हुआ। इस धमाके से बस पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई लिहाज़ा इस बस में सवार जवान शहीद हो गए। Pulwama Attack Full Story in Hindi

download Pulwama Attack Full Story in Hindi, Pulwama Attack 2019 News
CRPF Logo

Rakesh Tikait Biography in Hindi

Pulwama Attack Full Story in Hindi

दिन था गुरुवार, तारीख 14 फरवरी 2019 यानी वैलेंटाइन डे और समय करीब दोपहर के 3.30। जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर करीब 2500 जवानों को लेकर 78 बसों में CRPF का काफिला गुजर रहा था। सामान्य दिन की तरह ही उस दिन भी सीआरपीएफ के वाहनों का काफिला अपनी धुन में जा रहा था। हालांकि, घाटी में आतंकी गतिविधियों को देखते हुए काफिले में चल रहे सभी सुरक्षाकर्मी भी सतर्क थे। सड़क पर उस दिन भी सामान्य आवाजाही थी।

सीआरपीएफ का काफिला पुलवामा पहुंचा ही था, तभी सड़क के दूसरे साइड से सामने से आ रही एक कार ने सीआरपीएफ के काफिले के साथ चल रहे वाहन में टक्‍कर मार दी। जैसे ही सामने से आ रही एसयूवी काफिले से टकराई और जब तक सीआरपीएफ के जवान कुछ समझ पाते तब तक विस्फोटकों से लदी इस कार ने ऐसा धमाका किया, जिससे पूरा देश दहल उठा। 14 फरवरी का दिन भारत के इतिहास में काला दिन साबित हो गया। Pulwama Attack Full Story in Hindi

Pulwama Attack Full Story in Hindi
Pulwama Attack Full Story in Hindi

सड़क के दूसरी तरफ से आकर आतंकी की कार ने सीआरपीएफ जवानों के काफिले के एक वाहन में टकराकर ऐसा धमाका किया, जिसमें न सिर्फ जवान शहीद हुए, बल्कि बस के परखच्चे तक उड़ गए। यह हमला था या फिर कुछ और….यह बात भारतीय जवान जब तक समझ पाते आतंकियों ने गोलियां बरसानी शुरू कर दी। इसके बाद भारतीय जवानों ने भी तुरंत पोजिशन ली और काउंटर फायरिंग शुरू कर दी। सीआरपीएफ जवानों की फायरिंग को देख आतंकी वहां से भाग निकले। 

धमाका इतना जबरदस्त था कि कुछ देर तक सब कुछ धुआं-धुआं हो गया। जैसे ही धुआं हटा, वहां का दृश्य इतना भयावह था कि इसे देख पूरा देश रो पड़ा। उस दिन पुलवामा में जम्मू श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर जवानों के शव इधर-उधर बिखरे पड़े थे। चारों तरफ खून ही खून और मांस के टुकड़े दिख रहे थे। जवान अपने साथियों की तलाश में जुट गए।

Pulwama Attack Full Story in Hindi

तुरंत पूरे देश में हाहाकार मच गया, क्योंकि तब तक हमारे देश के 40 बहादुर जवान शहीद हो चुके थे। कई जवान घायल अवस्था में तड़प रहे थे। सेना ने बचाव कार्य शुरू किया और उन्हें तुरंत ही अस्पताल ले जाया गया। बचाव कार्य और सर्च ऑपरेशन दोनों एक साथ चल रहे थे। 

इस हमले को अंजाम देने वाला आत्मघाती हमलावर आतंकी आदिल अहमद डार था। आतंकी आदिल अहमद डार ही उस कार को चला रहा था, जिसमें विस्फोटक थे। इसने खुद को इस हमले में उड़ा लिया। घटना के तुरंत बाद पूरे देश में शोक की लहर दौड़ गई। पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने इस आतंकी हमले की जिम्मेदारी ली। Pulwama Attack Full Story in Hindi

इस घटना ने देश को ऐसे झकझोरा कि सबके जुबान पर इसके बदले की बात आ गई। सभी आतंकियों से बदले की बात कर रहे थे। मीडिया और सोशल मीडिया से सरकार पर दबाव बन रहा था। हर नागरिक, सिविल सोसाइटी और विपक्ष सरकार को आतंकवादियों और उसके आका पाकिस्तान से बदला लेने के लिए कह रहा था। फिर आखिरकार ऐसा हुआ भी। भारतीय सेना ने पुलवामा हमले के ठीक 12 दिन बाद आतंकियों पर हमला किया। 

पुलवामा हमले के ठीक 12 दिन बाद 26 फरवरी को भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान स्थित बालाकोट में आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद कै ठिकानों पर एयरस्ट्राइक कर दिया। इस एयरस्ट्राइक में भारतीय वायुसेना ने इतनी बमवर्षा की कि उसके आतंकी ठिकाने पूरी तरह से ध्वस्त हो गए और करीब 300 आतंकवादी मारे गए। Pulwama Attack Full Story in Hindi

इस तरह से भारतीय वायुसेना ने बालाकोट में आतंकी शिविरों को नेस्तनाबूत कर पुलवामा अटैक का बदला ले लिया। इन दो घटना के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनातनी खूब बढ़ गई। बता दें कि भारत ने पुलवामा अटैक में शामिल सभी आतंकवादियों को भी धीरे-धीरे मार गिराया। 

पुलवामा का ही रहने वाला था हमलावर

बताया ये भी जा रहा है कि कार में सवार जिस आत्मघाती ने इस हमले को अंजाम दिया उसका नाम आदिल था और वो पुलवामा का ही रहने वाला था। 2018 में ही वो जैश ए मोहम्मद संगठन में शामिल हुआ था।

10 किलोमीटर तक सुनाई दी धमाके की आवाज़
धमाका कितना तेज़ था और ये हमला कितना घातक था इसका अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इस विस्फोट की आवाज़ 10 किलोमीटर के दायरे तक सुनाई दी थी।

Pulwama Attack Full Story in Hindi
Pulwama Attack Full Story in Hindi

दुकान बंद कर भागने लगे थे लोग
इस धमाके की आवाज़ सुनते ही आसपास के बाज़ारों के लोग दुकानों के शटर डाऊन कर भाग खड़े हुए।

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में गुरुवार की मनहूस दोपहर 3.37 बजे केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल यानि सीआरपीएफ के काफिले पर बीते चंद सालों का सबसे बड़ा आतंकी हमला हुआ जिसमें 39 जांबाज जवान शहीद हो गए. अनेक घायल हैं, जिनमें कई की हालत गंभीर है जिनका इलाज किया जा रहा है.

ये हमला जम्मू-कश्मीर में जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर पुलवामा के अवंतीपूरा में हुआ. जवानों से भरी गाड़ियां हाइवे से गुजर रही थी उसी वक्त हमला हुआ और फिर गाड़ी में आग लग गई. बताया जा रहा है कि ब्लास्ट के बाद आतंकियों ने जवानों से भरी बस पर फायरिंग भी की. विस्फोट की वजह से जवानों से भरी बस के परखच्चे उड़ गए. हमले के बाद प्रशासन ने हाइवे को बंद कर दिया और घायल जवानों को तेजी से अस्पताल पहुंचाया. Pulwama Attack Full Story in Hindi

काफिले में थी 78 गांडियां और 2500 जवान

सीआरपीएफ के काफिले में 78 गाड़ियां थीं जिसमें 2500 जवान जम्मू से श्रीनगर जा रहे थे. बताया जा रहा है कि आतंकियों को इस रूट पर जवानों की गाड़ियों के मूवमेंट की जानकारी पहले से थी और उसी का फायदा उठाते हुए आत्मघाती हमलावर ने इसे अंजाम दिया. जम्मू से करीब 262 किलोमीटर दूर ये हमला हुआ है. आतंकी हमले के बाद अवंतिपुरा में भगदड़ मच गई और फिर स्थानीय दुकानदारों ने जल्दी जल्दी अपनी दुकानें बंद कर दी.

Pulwama Attack Full Story in Hindi

आदिल अहमद नाम के आतंकी ने इस हमले को अंजाम दिया. बताया जा रहा है कि पुलवामा का रहने वाला आदिल पिछले साल ही जैश ए मोहम्मद में शामिल हुआ था. आदिल विस्फोटकों से भरी गाड़ी लेकर हाइवे पर गया और फिर हमले को अंजाम दिया. आदिल आतंक की दुनिया में वकास कमांडो के नाम से भी जाना जाता था. बताया जा रहा है कि उसमें करीब 200 किलो विस्फोटक था. विस्फोटों को रिमोट कंट्रोल से उड़ाने का पूरा प्लान था और आतंकी आदिल ने भी ऐसा ही किया. इतने विस्फोटक के साथ कार नेशनल हाइवे पर कैसे आई इसकी जांच जरूरी है.

जैश के आतंकी ने किया हमला

अभी तक की जानकारी के मुताबिक अवंतिपुरा में जो हमला हुआ उसे जैश के आतंकी ने कार में विस्फोट रखकर ही अंजाम दिया. देश में पहली बार इस तरह कार बम से आतंकी हमले में हमारे इतने जवान शहीद हुए हैं.

सूत्रों के मुताबिक जैश ए मोहम्मद का आतंकी एक कार में सवार था. आतंकी की गाड़ी में विस्फोटक मौजूद था. बताया जा रहा है कि रिमोट से इस ब्लास्ट को आतंकियों ने अंजाम दिया. हालांकि अभी ये साफ नहीं हुआ है कि जिस फिदायीन ने इस हमले को अंजाम दिया वो मारा गया है या भाग निकला है.

Pulwama Attack Full Story in Hindi

उरी हमले में 19 जवान शहीद हुए थे

मोदी सरकार में हुए ये सबसे बड़े हमलों में से एक है. इससे पहले आतंकियों ने 2016 में उरी में हमला किया था. 18 सितंबर 2016 की उस रात आतंकियों ने सेना के कैंप पर हमला किया था जिसमें 19 जवान शहीद हो गये थे. बाद में इसका बदला सर्जिकल स्ट्राइक से लिया गया था.

बस में सवार थे 42 जवान

जम्मू कश्मीर के अवंतीपुरा में आतंकी हमले में जिस बस को निशाना बनाया गया उसमें 42 जवान सवार थे. जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी ने बस पर फिदायीन हमला किया. फिदायीन हमले में जिस गाड़ी का इस्तेमाल किया गया उसमें 200 किलोग्राम विस्फोटक भरा हुआ था. ये विस्फोट इतना जबरदस्त था कि बस के परखच्चे उड़ गए और तकरीबन पांच किलो मीटर तक इसकी आवाज सुनाई थी. ये हमला तब किया गया जब सीआरपीएफ जवानों काफिला श्रीनगर से पुलवामा ले जाया जा रहा था. बस पर हमले के बाद आतंकियों ने फायरिंग भी की.

Pulwama Attack Full Story in Hindi

Pulwama Pulwama Attack Full Story in Hindi, Pulwama Attack 2019 News
Pulwama Attack Full Story in Hindi

पांच किलोमीटर दूर तक सुनाई दी विस्फोट की आवाज

खबरों के मुताबिक एक छोटी गाड़ी में फिदायीन हमलावर बैठा हुआ था और वो विस्फोटक से भरी गाड़ी लेकर बस से टकरा गया. इस ब्लास्ट के बाद आतंकियों ने फायरिंग भी की. इस घटना के बाद जम्मू-श्रीनगर हाईवे को पूरी तरह से बंद कर दिया गया है. विस्फोट इतना तेज था कि उसकी आवाज तकरीबन पांच किलोमीटर दूर तक सुनाई दी. आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर ग्रेनेड अटैक भी किया.Pulwama Attack Full Story in Hindi

हाईवे पर सुबह 8 बजे से लेकर रात 8 बजे तक सुरक्षाबल तैनात रहते हैं. लेकिन इसके बाद भी इतना बड़ा हमला होना सुरक्षा में बड़ी चूक माना जा रहा है. इस तरह की मूवमेंट के दौरान भी चार से पांच गाड़ियां काफिले की सुरक्षा के लिए चलती हैं. इसके अलावा कुछ जवान पैदल चलते हुए भी इसकी निगरानी रखते हैं कि कहीं कोई आतंकी काफिले में घुसने की कोशिश तो नहीं कर रहा है.

उम्मीद करते हैं कि आपको हमारी यह पोस्ट Pulwama Attack Full Story in Hindi, पसंद आयी होगी, अपने विचार जरूर comment box में लिखें तथा अपने मित्रों के साथ social media द्वारा जरूर इस जानकरी को share करें|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *